अपील

मुव्मेंट फॉर पीस एंड जस्टिस फॉर वेलफेयर (एमपीजे) को आप की ज़रुरत है, क्योंकि आप ख़ुद समाज में एक बड़ा बदलाव चाहते हैं! आप की ज़रुरत इस लिए भी है की आप एक अच्छे दिल और दीमाग के मालिक हैं जो न केवल दूसरों का दर्द महसूस करता है बल्कि उस दर्द को बांटने में भी विश्वास करता है! नेल्सन मंडेला ने कहा था कि, एक अच्छा दिमाग और एक अच्छा दिल हमेशा से विजयी जोड़ी रहे हैं और आज हमें आप जैसे विजेताओं की ज़रुरत है!

आप प्रदेश की वर्तमान सामाजिक एवं आर्थिक दशा देख रहे हैं! प्रदेश में ग़रीबी, भुखमरी, बीमारी, बेरोज़गारी तथा भ्रष्टाचार जैसी अनेक समस्याएँ मुंह बाए खड़ी हैं! समाज का एक बड़ा तबक़ा आज भी ज़िन्दगी बसर करने के लिए ज़रूरी बुनयादी सुविधाओं से वंचित है! आज भी प्रदेश में सामाजिक एवं आर्थिक विषमता एवं असामनता साफ़ तौर पर नज़र आता है! हर व्यक्ति शांति एवं सुख का अभिलाषी है और इस लक्ष्य को पाने के लिए बड़े बदलाव की ज़रुरत है!

इसी बदलाव एवं लोगों को उसका अधिकार दिलाने के लिए ही तो सामाजिक संगठनें दिन और रात एक कर के काम कर रही हैं! यह सामाजिक संगठन ही तो है, जिसने सरकार से लड़कर आपको सूचना का अधिकार, शिक्षा का अधिकार तथा खाद्य सुरक्षा जैसे अनेक लाभ पहुंचाए! सामाजिक संगठनों को भी तो आप जैसे उर्जावान लोग ही चलाते हैं!

इसलिए एमपीजे को आप की ज़रुरत है, क्योंकि आप में बदलाव लाने की क्षमता है! महात्मा गाँधी ने भी तो कहा था कि, खुद वह बदलाव बनिए जो दुनिया में आप देखना चाहते हैं!

मेम्बरशिप फॉर्म डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

or connect with us on Whatsapp no.+91-9324201186

Food

Education

लॉकडाउन के दौरान संसाधन विहीन लोगों को होने वाली परेशानियों को दूर करने हेतु सरकार उचित क़दम उठाए






देश में कोरोना वायरस नामी प्राकृतिक आपदा की वजह से संपूर्ण लॉकडाउन है, जिसके कारण जन-जीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है. लोग घरों में क़ैद हो गए हैं. हमारे यहाँ तक़रीबन 94% लोग असंगठित क्षेत्र में कार्यरत हैं और इनमें अधिकांश रोज़ कमाने खाने वाले लोग हैं. प्रदेश में बड़ी तादाद में अप्रवासी कामगार भी रहते हैं. लॉकडाउन की वजह से न केवल निजी और असंगठित क्षेत्र में कार्यरत लोगों की आमदनी बन्द हो गई है, बल्कि होटल, रेस्टोरेंट और समस्त खाने के काउंटर्स बंद होने के कारण बड़ी संख्या में लोगों के सामने भूखमरी की समस्या उत्पन्न हो गई है.  इसके अलावा आंगनवाड़ी, बालवाड़ी, स्कूल आदि बन्द होने के कारण ग़रीब और वंचित वर्ग के बच्चों को मिड डे मील  के तहत मिलने वाले एक वक़्त के भोजन की सुविधा भी छिन गई है.

एम पी जे ने प्रदेश में लॉकडाउन के दौरान लोगों को होने वाली परेशानियों के मददे नज़र मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंप कर निम्नलिखित मांगे रखी हैं:

1.     तमाम राशनकार्ड धारकों, चाहे किसी भी केटेगरी का कार्डधारक हो, दो महीने का राशन मुफ़्त मिलना चाहिए.
2.    तमाम रजिस्टर्ड बांधकाम मजदूरों के खाते में कम से कम 5000/- (पांच हज़ार रूपए) उनके वेलफेयर फण्ड से जमा होना चाहिए.
3.    प्रदेश सरकार द्वारा तमाम अनरजिस्टर्ड बांधकाम मज़दूरों तथा अन्य असंगठित क्षेत्र कामगारों को मिनिमम वेजेज़ एक्ट के अनुसार दो महीने की पगार अविलम्ब दिया जाना चाहिए.
4.    समस्त सामाजिक पेंशन लाभार्थियों के खाते में दो महीनों का पेंशन जमा होना चाहिए.
5.    प्रदेश में जगह जगह शिव थाली का प्रबंध किया जाना चाहिए.
6.    सरकार द्वारा कम्युनिटी किचन की व्यवस्था कर के प्रभावित लोगों को अविलम्ब राहत पहुँचाने का काम करना चाहिए.


इसके अलावा एम पी जे ने लॉकडाउन के दौरान राहत तथा जन कल्याण कार्यों के लिए प्रदेश सरकार को अपनी सेवाएँ भी पेश की हैं.  

Highlights of Jan Adhikar Adhiveshan: 02.02.2020


एम पी जे का जन अधिकार अधिवेशन सफलतापूर्वक संपन्न




मुंबई: जनता के अधिकारों पर आज यहाँ “जन अधिकार अधिवेशन” के नाम से एक अखिल महाराष्ट्र सम्मलेन का आयोजन किया गया, जिसमें प्रदेश में जन अधिकारों की प्रदानगी (Delivery) को लेकर चिंता व्यक्त की गई.

प्रदेश के अलग-अलग भागों से आए हुए आम जन को संबोधित करते हुए मुव्हमेंट फ़ॉर पीस एंड जस्टिस फ़ॉर वेलफेयर” (एम पी जे) के प्रदेश अध्यक्ष, मुहम्मद सिराज ने कहा कि, देश का संविधान समस्त नागरिकों को इज्ज़त वाली ज़िन्दगी जीने का अधिकार प्रदान करता है. लेकिन देश में भूख की वजह से मौतें होती हैं. भारत में भूख एक बड़ी समस्या बनी हुई है. भारत दुनिया के उन 45 मुल्कों में शामिल है जहां भूख की समस्या गंभीर है.   महाराष्ट्र में 2 करोड़ से भी ज़्यादा लोग कुपोषण के शिकार हैं. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक़ प्रदेश की कुल आबादी का 30 प्रतिशत हिस्सा ग़रीबी रेखा के नीचे ज़िन्दगी बसर करने को मजबूर है, जबकि हक़ीक़त में इस से कहीं ज़्यादा लोग ग़रीबी रेखा से नीचे ज़िन्दगी जी रहे हैं. प्रदेश में गरीबी दर 18% है, जो राष्ट्रीय औसत के बहुत करीब है.  उन्हों ने प्रदेश की बदहाल प्राथमिक शिक्षा और पब्लिक हेल्थकेयर संस्थानों की ओर भी लोगों का ध्यान आकर्षित करते हुए कहा कि आज न तो बच्चों को क्वालिटी एजुकेशन मिल रही है और न ही दर्जेदार आरोग्य सेवा.
   
इस अधिवेशन में शिक्षा के अधिकार के तहत जनता को मिल रहे अधिकारों कि वर्तमान स्थिति पर बात करते हुए प्रोफेसर सैयद मोहसिन ने कहा कि, सरकारी स्कूलों में लर्निंग आउटकम एक बड़ी समस्या बन कर उभरी है. उन्हों ने भारत सरकार के द्वारा जारी किए गए एनुअल सर्वे ऑफ़ एजुकेशन रिपोर्ट का हवाला देते हुए बताया कि हमारे बच्चों को दर्जेदार शिक्षा नहीं मिल रही है. इस सर्वे रिपोर्ट के मुताबिक़ पांचवीं क्लास के तकरीबन 70% बच्चे आसान अंकगणितीय गणना (Arithmetic Calculation) नहीं पाते हैं. पहली क्लास के 40% बच्चे अक्षर तक नहीं पहचानते. क्लास 5 के लगभग 50 प्रतिशत छात्र क्लास दो  के पाठ को ठीक ढंग से नहीं पढ़ पाते हैं. जिसकी वजह से कमज़ोर बच्चे क्लास नौ में फ़ेल हो जाते हैं और ये स्कूल ड्रॉपआउट बच्चे या तो असामाजिक कार्य में लिप्त हो जाते हैं या फिर असंगठित क्षेत्र में नज़र आते हैं. 

प्रदेश में आरोग्य की वर्तमान स्थिति पर हेल्थ एक्टिविस्ट डॉ.अभिजीत ने अपने विचार प्रकट करते हुए कहा कि आरोग्य ही संपत्ति है, लेकिन सरकार की उदासीनता की वजह से प्रदेश में पब्लिक हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर बीमार हो चूका है. सरकार बजट कम करती जा रही है. प्रदेश में सिर्फ़ 20% लोग सरकारी अस्पतालों में जाती है, बाक़ी लोग महंगे प्राइवेट हॉस्पिटल्स में इलाज कराने को मजबूर हैं. उन्हों ने कहा कि, सरकार के पास चंद्रयान के लिए पैसे हैं, किन्तु प्रदेश में दर्जेदार आरोग्य सेवा की प्रदानगी के लिए पैसे नहीं हैं.

असंगठित क्षेत्र कामगारों के कल्याण और उनके अधिकारों पर लेबर मुव्हमेंट एक्टिविस्ट मधुकांत पथारिया ने मार्गदर्शन प्रदान किया. उन्हों ने मजदूरों को मिलने वाले लाभ में आ रही बाधाओं का ज़िक्र करते हुए कहा कि एक मज़दूर दूसरों का घर तो अपना खून पसीना एक कर के बना डेटा है, किन्तु उसे रहने के लिए ख़ुद के पास घर नहीं है. मजदूरों के लिए अनेक लाभों का क़ानून प्रावधान होते हुए, उन्हें इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है.  

इस अधिवेशन में लोगों के अधिकारों के हनन पर एक जन सुनवाई का आयोजन किया गया. जन सुनवाई को मुंबई हाई कोर्ट की वरिष्ठ अधिवक्ता गायत्री सिंह और टाटा इंस्टिट्यूट सोशल साइंसेज के फैकल्टी मेम्बर महेश काम्बले जज किया.

इस अधिवेशन के मुख्य वक्ता प्रसिद्ध कार्यकर्त्ता और भूतपूर्व आई ए एस अधिकारी हर्ष मंदर ने देश में जन अधिकारों की डिलीवरी पर चिंता व्यक्त करते हुए जन अधिकरों की प्राप्ति पर मार्गदर्शन प्रदान किया. उन्हों ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि, आज आप यहाँ जन अधिकारों की बात करने के लिए जमा हुए हैं, लेकिन अधिकार तो नागरिकों के होते हैं. आज देशवासियों के सामने ख़ुद को नागरिक साबित करने के लिए मजबूर किया जा रहा है.

अधिवेशन में महाराष्ट्र सरकार के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री नवाब मालिक भी मौजूद थे. उन्हों ने जन सुवाई के दौरान लोगों की शिकायतें सुनीं और भरोसा दिलाया कि उनके पास जो भी शिकायतें आती हैं, उनका समाधान करने हेतु आवश्यक क़दम उठाया जाएगा. अधिवेशन की अध्यक्षता जमाअत-ए-इस्लामी हिन्द के राष्ट्रीय अध्यक्ष सैयद सआदतुल्लाह हुसैनी ने की.












       

               
               

                   
           
                    
                    

                    
                    

                                                                  
                                         
                     

एम पी जे का जन अधिकार अधिवेशन हज हाउस में आयोजित होगा



मुव्हमेंट फ़ॉर पीस एंड जस्टिस फ़ॉर वेलफेयर (एम पी जे) द्वारा 02 फ़रवरी 2020 रविवार को हज हाउस, मुंबई में जन अधिकारों पर अखिल महाराष्ट्र सम्मलेन का आयोजन किया जा रहा है. इस बात की घोषणा मुहम्मद सिराज, अध्यक्ष, मुव्हमेंट फ़ॉर पीस एंड जस्टिस फ़ॉर वेलफेयर द्वारा मुंबई मराठी पत्रकार संघ में एक प्रेस वार्ता के दौरान की  गई. मीडिया को संबोधित करते हुए मुहम्मद सिराज ने  देश में जन अधिकारों की प्रदानगी (Delivery) पर सवाल उठाते हुए कहा कि एक तरफ तो हमारा संविधान देश के हर नागरिक को गरिमापूर्ण ज़िन्दगी जीने की गारंटी देता है, दूसरी तरफ़ महाराष्ट्र में करोड़ों लोग पीड़ा और अभाव में ज़िन्दगी बसर करते दिखाई दे रहे हैं.

उन्हों ने बताया कि हम ने पिछले छह महीनों के दौरान जमीनी स्तर पर जा कर लोगों की समस्याओं को जानने और उनकी शिकायत को सम्बंधित अथॉरिटी तक पहुँचाने की कोशिश की है. अब एम पी जे जन अधिकार अधिवेशन का आयोजन करने जा रही है, जिसमें महाराष्ट्र शासन के प्रतिनिधियों को भी आमंत्रित किया गया  है. अधिवेशन में विशिष्ट सामाजिक कार्यकर्ताओं और विशेषज्ञों द्वारा जन अधिकार पर मार्गदर्शन प्रदान किया जाना है. जिनको अधिकार नहीं मिल रहे हैं, उनकी शिकायतों पर जन सुनवाई का आयोजन किया गया है. एम पी जे का प्रयास  है कि संविधान जिस व्यक्ति की गरिमा (Dignity of individual) की  बात करती है, वह अक्षरशः लोगों की ज़िन्दगी में दिखनी चाहिए.

उन्हों ने बताया कि, पहले अधिवेशन आज़ाद मैदान में होना था, लेकिन अब जन अधिकार अधिवेशन हज हाउस मुंबई में 02 फ़रवरी 2020 को दोपहर 02:00 बजे आयोजित होगा. इस अवसर पर संगठन के महासचिव अफ़सर उस्मानी और सचिव अल्ताफ़ हुसैन भी मौजूद थे.






Jan Adhikar Adhiveshan I 02 February 2020 I

एम पी जे शिष्टमंडल ने खाद्य आपूर्ति मंत्री से मुलाक़ात कर के राशन वितरण की समस्याओं पर चर्चा की





नागपूर: मुव्हमेंट फ़ॉर पीस एंड जस्टिस फ़ॉर वेलफेयर की नागपुर इकाई के एक डेलीगेशन ने राज्य विधानसभा के शीतकालीन अधिवेशन के दौरान खाद्य आपूर्ति मंत्री श्री छगन भुजबल से मुलाक़ात कर के राशन वितरण की समस्याओं पर चर्चा की. उन्हें प्रदेश में जन वितरण प्रणाली के तहत मिलने वाले राशन में हो रही अनियमितताओं को समाप्त करने और समस्त लाभार्थियों को अच्छी क्वालिटी के सामान के वितरण को लेकर एक ज्ञापन सौंपा. 

एम पी जे ने मंत्री महोदय से जिनके पास आधार कार्ड नहीं है, उन्हें भी राशन दिए जाने, राशन की दूकानों को नियमित रूप से खुली रखने, सस्ते दामों पर खाद्य तेल, विविध दालें, चना, मटर आदि वस्तुएं वितरित किए जाने, राज्य के सभी जिलों में जिला तक्रार निवारण अधिकारी की नियुक्ती के बारे में जनजागृति करने, राज्य के सभी राशन दुकानों में संबंधित अधिकारीयों का पता प्रदर्शित करने आदि की मांग की है.  



इन मांगों को लेकर शिष्टमंडल ने मंत्री महोदय से चर्चा की. मंत्री महोदय ने शिष्टमंडल को उचित कार्रवाई करने का आश्वासन दिया.

शिष्टमंडल में MPJ के नागपूर जिला महासचिव शकील मोहम्मदी, नाजि़म हुसैन,ऐह्ताशामुल हक़, राजेश बांगर और अन्य कार्यकर्ता शामिल थे.    

गोवंडी राशन ऑफिस में केरोसिन के लिए गरीब जनता ने किया सफ़ल विरोध प्रदर्शन







मुंबई: गरीब जनता ने 17 दिसम्बर को  गोवंडी राशन कार्यालय में सार्वजनिक वितरण प्रणाली की दूकानों से केरोसिन के वितरण को रोक दिए जाने के ख़िलाफ़ ज़बरदस्त विरोध प्रदर्शन किया. उल्लेखनीय है कि सरकार ने चूल्हा मुक्त महाराष्ट्र-धुआं मुक्त महाराष्ट्र योजना के तहत खाद्य सुरक्षा कानून के लाभार्थी सभी राशन कार्ड धारकों को घरेलू एलपीजी गैस देने का फैसला किया है. किन्तु सरकार ने इस योजना पर 100 प्रतिशत कार्यान्वयन होने से पहले ही राशन की दुकान से मिट्टी के तेल के वितरण को बंद कर दिया है.  लोगों के पास न तो खाना पकाने के लिए गैस है और न ही राशन की दूकान से उन्हें केरोसिन मिल रहा है. खुले बाज़ार में 80 रूपए प्रति लीटर की दर से केरोसिन बिक रहा है, जो गरीबों की पहुंच से बाहर है. जिसके कारण गरीब लोग भूखमरी का शिकार हैं.

जन कल्याणार्थ, मुव्हमेंट फ़ॉर पीस एंड जस्टिस फ़ॉर वेलफेयर (MPJ) ने 17 दिसम्बर को  महाराष्ट्र सरकार से  मांग की है कि, जब तक चूल्हा मुक्त महाराष्ट्र-धुआं मुक्त महाराष्ट्र योजना के तहत सभी लोगों को एलपीजी गैस उपलब्ध नहीं करा दी जाती है, तब तक खाद्य सुरक्षा क़ानून से लाभ पाने के पात्र सभी राशन कार्ड धारकों को राशन की दुकान से केरोसिन मिलना चाहिए.

17 दिसम्बर को  एमपीजे के नेतृत्व में जन अधिकार परिषद के बैनर तले बड़ी तादाद में ग़रीब जनता ने केरोसिन बंद करने के ख़िलाफ़ गोवंडी राशन कार्यालय के सामने विरोध-प्रदर्शन किया और राशन अधिकारी को ज्ञापन सौंप कर जन वितरण प्रणाली के अंतर्गत मिट्टी के तेल सस्ते दरों पर उपलब्ध कराने की मांग की.   राशन अधिकारी ने जन अधिकार परिषद के डेलीगेशन से लोगों को राशन की दूकान से केरोसिन  दिए जाने का भरोसा दिलाया.

© Copyright 2015. MPJ, Maharashtra. This Blog is Designed, Customised and Maintained by Zinfomedia, the media arm of Brightworks Enterprises: Theme by Way2themes